अवैध रेत संग्रहण होने के मामले में कार्रवाई दिए आदेश।

0
84

चंद्रपुर :

जिलाधिकारी कार्यालय के जिला खनन अधिकारी की ओर से चंद्रपुर तहसीलदार के नाम एक आदेश पत्र जारी कर घुग्घुस मार्ग पर स्थित एन.एम. पुगलिया के मिक्स प्लांट व आरएमसी प्लांट में अवैध रेत संग्रहण होने के मामले में उसके परिवहन संबंधित जीपीएस ट्रैकिंग की जांच कर कार्रवाई करने के आदेश दिए। बीते वर्षों में की गई गड़बड़ी को जीपीएस प्रणाली से पकडक़र संबंधितों के खिलाफ कार्रवाई करने की प्रक्रिया चलाये जाने से रेत के व्यापार से जुड़े लोगों में खलबली मची है।

बताया जाता है कि घुग्घुस मार्ग पर स्थित महाकुर्ला गांव के एन.एम. पुगलिया कंपनी के सर्वे नंबर १५५ में १९० ब्रास रेत के खनिज परिवहन लाइसेंस रसिदों की जीपीएस ट्रैकिंग प्रणाली से जांच के आदेश पूर्व में ही दिए गए थे। रसिदों के आधार पर कौनसे स्थान से कहां तक रेत का परिवहन किया गया और कितनी फेरियां लगाई गई, इसकी जानकारी उपलब्ध कराने के आदेश दिए गए थे।

जिसके चलते वर्ष २०१६-१७ से वर्ष २०१९-२० तक प्राप्त परिवहन रसिदों की जांच की गई। इस जांच में पेश किए गए ८२ रसिद पासेस में से १२ ब्रास रेत अवैध पाई गई। पूणे के शौर्या टेक्नोसॉफ्ट लिमिटेड कंपनी की ओर से जीपीएस रिपोर्ट में वर्ष २०१७-१८ के ४८ परिवहन पासेस की जांच की गई तो इसमें केवल ८ इनवाइस तैयार किए जाने की जानकारी मिली। इन ८ इनवाइस डेटा में से २ इनवाइस की जानकारी जीपीएस प्रणाली पर उपलब्ध नहीं है। अर्थात गलत इनवाइस नंबर पर परिवहन किए जाने की जानकारी उजागर हुई है।

इस स्थिति को देखते हुए जिला खनन विभाग ने तहसीलदार से अनेक सवालों का जवाब मांगा है। वर्ष २०१६-१७ में ३६ परिवहन पासेस के अनुसार ७७ ब्रास रेत वर्ष २०२०-२१ तक संग्रहित करने का कारण एवं कंपनी की ओर से वर्ष निहाय प्राप्त रेत व उसके उपयोग के दस्तावेज मंगवाये गये हैं। वहीं जब्त की गई १९० ब्रास रेत मामले में पेश किए पासेस वाली रेत से मेल नहीं दर्शाते। वर्ष २०१८-१९ में १२ परिवहन पासेस की १२ ब्रास रेत को अवैध करार दिया गया है।

प्रशासन की रिपोर्ट में जब्त १९० ब्रास रेत में से ३६ ब्रास रेत वैध एवं शेष १५४ ब्रास रेत को अवैध मानते हुए इसके संग्रहण व उपयोग के संदर्भ में संतोषजनक जवाब पेश नहीं किए जाने की बात तहसीलदार के नाम जारी किए गए १० अगस्त के आदेश पत्र में कही गई है।

प्लांट संचालक से मांगा स्पष्टीकरण
जिला खनन अधिकारी की ओर से प्राप्त दस्तावेज एवं शौर्या टेक्नोसॉफ्ट लिमिटेड कंपनी के जीपीएस ट्रैकिंग संबंधित कागजातों की जांच की जा रही है। महाकुर्ला स्थित एन.एम. पुगलिया के मिक्स प्लांट व आरएमसी प्लांट में अवैध रेत संग्रहण मामले में प्राप्त प्रमाणों के आधार पर संबंधित कंपनी के संचालक को एक सप्ताह की मियाद देते हुए अपना जवाब पेश करने के लिए नोटिस दिया जा चुका है। संतोषजनक जवाब न मिलने पर जुर्माने की कार्रवाई प्रशासन की ओर से शीघ्र ही की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here