नाबलीक गर्भवती मामला : सगे भाई सहित दो अन्य का लिया गया रक्त नमूना।

0
86

 

माजरी (चंद्रपुर) :

भद्रावती तहसील के माजरी थानाक्षेत्र के अंतर्गत विनायक नगर के दफाई नम्बर 1 में 16 वर्षीय लड़की को गर्भवती होने का मामला परिजनों के प्रकाश में आने पर हड़कम्प मच गया था.इस घटना की शिकायत मिलने पर माजरी थाने में 5 सितम्बर को पॉस्को एक्ट के तहत मामला दर्ज करते हुए जांच कार्य मे लग गयी।माजरी पुलिस के अनुसार पीड़ित किशोरी अपने रिश्तेदार के यहाँ रहकर नौवीं कक्षा में पढ़ाई कर रही थी,लाकडाउन लगने के दौरान विद्यालय बन्द होने के कारण वरोरा तहसील रामपुर अपने गांव में खेती का कार्य करने वाले माँ-पिता जी के पास जाकर रहने लगी. पीड़िता के माँ-बाप अपने पुत्री को सुरक्षित समझकर घर में अकेले छोड़ कर चले जाते थे,लेकिन रिश्तेदार तथा घर के ही सदस्य उस लड़की को अपनी हवस का शिकार बनाने के इंतजार में बैठे हैं किसे पता था?लड़की अपंग होने के साथ ही घर में अकेले बेसहारा थी जिसे नराधम ने रिश्ते की परवाह किये बगैर ही रौंद कर रख दिया।पीड़िता ने अपने साथ घटित घटना को माँ से बतायी. लोक लज्जा के डर से पीडिता और उसकी माँ ने मुँह बन्द रखने में ही अपनी भलाई समझी.धीरे-धीरे आठ माह का समय गुजरने के बाद तबियत खराब होने पर निजी अस्पताल ले जाया गया ,नाबालिग होने के कारण डॉक्टर ने सरकारी अस्पताल में लेजाने और पुलिस केस कर असलियत तक पहुंचने की सलाह परिजनों को दी.जिसके बाद वरोरा स्थित उपजिला रुग्णालय में किशोरी को भर्ती कराया गया जहाँ पर सरकारी अस्पताल के डॉक्टर ने स्थिति की गम्भीरता को समझते हुए पुलिस को सूचना दीवहां के चिकित्सक ने थाने में रिपोर्ट करने की सलाह दी। किंतु यह सुनकर उसके माता पिता और रिश्तेदार अस्पताल से भाग निकले. घटना की जानकारी जिला बाल संरक्षण गृह चंद्रपुर को मिली. जिसके बाद बाल संरक्षण अधिकारी , चंद्रपुर की फरियादी हर्षा वरहाटे ने मामले की जांच करने और दोषियों पर कार्रवाई करने के लिये रिपोर्ट दी।
रिपोर्ट के आधार पर माजरी पुलिस ने अज्ञातआरोपी के खिलाफ विविध धारा के तहत मामला दर्ज किया। जांच अधिकारी के अनुसार पीडित किशोरी के बार-बार बयान बदलने के कारण जाँच कार्य में परेशानी हो रही है, जिसके वजह से अगले सप्ताह में किसी भी दिन डिलीवरी होने के बाद बाद शिशु और आरोपियों के डीएनए की जांच की जाएगी. फिलहाल सगे भाई सहित अन्य दो नजदीकी सम्बन्धियों के रक्त नमूना डीएनए जांच के लिए संग्रहित कर लिया गया है इसके पश्चात आगे की कार्रवाई की जाएगी।मामले की जाँच निलेश पाण्डे के मार्गदर्शन में सहायक पुलिस निरीक्षक विद्या जाधव कर रही हैं।

डिलीवरी होने के बाद शिशु और आरोपियों के डीएनए की जांच की जाएगी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here