मासूमों की हादसे में मौत मामले में दोषियों को सजा सत्र न्यायालय का महत्वपूर्ण फैसला

0
128

मासूमों की हादसे में मौत मामले में दोषियों को सजा
सत्र न्यायालय का महत्वपूर्ण फैसला

वणी (यवतमाल): पांच साल पहले वरोरा बाईपास पर एक स्कूल वाहन कोयले से भरे ट्रक से टकरा गया था. इस दुर्घटना में चार छात्रों की मौत हो गई थी और पांच अन्य गंभीर रूप से घायल हुए थे. इस दुर्घटना मामले में, केलापुर के सत्र न्यायालय ने एक महत्वपूर्ण फैसला सुनाया है. फैसले के अनुसार स्कूल ड्राइवर को पांच साल की जेल और ट्रक ड्राइवर को दो साल की जेल की सजा सुनाई गई है. हालांकि चार मासूमों की मौत के इस मामले में केवल पांच और दो साल की जेल की सजा अपर्याप्त होने की प्रतिक्रियाएं लोग दे रहे है.

यह घटना 18 फरवरी 2016 की सुबह 7.45 बजे वणी -वरोरा बायपास परिसर में हुई थी. स्कूल वाहन क्रमांक एमएच 34, एए 7738 यह वाहन दस स्कूली बच्चों को लेकर जा रहा था. इसी दौरान नांदेपेरा टी पॉइंट के पास विपरीत दिशा से आ रहे एक कोयला से लदे ट्रक एमएच 34, एम 1133 से उसकी टक्कर हो गई. इसमें गौरव देउलकर और श्रद्धा हुलके की मौके पर ही मौत हो गई जबकि श्रेया उमाले और दिशा काकड़े की नागपुर में इलाज के दौरान मौत हो गई. इस घटना में करीबन पांच अन्य मासूम घायल भी हुए थे.

वणी शहर में इस दुर्घटना को लेकर अभिभावकों में बेहद रोष व्याप्त था. तत्कालीन थानेदार मुकुंद कुलकर्णी ने इस घटना की जांच की थी और मामले को संज्ञान में लाया था. उस समय यह मांग भी उठी थी कि एड. विनायक काकड़े सरकार की ओर से केस लड़ें. इसलिए सरकार ने एड. विनायक काकड़े को नियुक्त भी किया था. जिला एवं सत्र न्यायाधीश पी. बी. नाइकवाड के कोर्ट द्वारा स्कूल ड्राइवर गणेश बोधने को पांच साल की जेल और ट्रक ड्राइवर नियाज अहमद को दो साल के जेल की सजा सुनाई है.

मासूम और उनके अभिभावकों को न्याय मिला
मुझे वह दुर्भाग्यपूर्ण दिन अच्छी तरह याद है. एक बार फिर यह साबित हो गया कि पुलिस की कार्रवाई और जांच में जनता द्वारा दिखाए गए विश्वास के कारण ही आज दोषियों को सजा हुई है. यह बात भी सच है कि पुलिस केवल अच्छे से मामले की जांच कर सकती है लेकिन एक बुद्धिमान वकील की सहायता से ही न्याय मिल सकता है.आज उन मासूम और उनके अभिभावकों को न्याय मिला है.
-मुकुंद कुलकर्णी, तत्कालीन थानेदार, वणी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here