रईसों का तो ठीक है, गरीब इलाज कहां कराएंगे ?

0
217

τ
चंद्रपुर :

पालकमंत्री विजय वडेट्टीवार ने हालही में ये कहा था कि अगले आठ दिनों में स्वास्थ्य व्यवस्था की हालत पूरी तरह से बदल जाएगी. लेकिन कोविड सेंटर में न तो एक नया बेड लगाया गया है और न ही डॉक्टर की ही व्यवस्था हुई है. दूसरी ओर अब ये पता चला है कि नागपुर की कुछ कार्पोरेट कंपनियां चंद्रपुर में 700 बेड का जम्बो कोविड केयर सेंटर खोलने की तैयारी कर रही है. इसका फायदा चंद्रपुर के चंद रईसों को तो हो जाएगा, लेकिन जिले के गरीबों का इलाज कहां पर किया जाएगा? इसका भी जवाब अब दिया जाना चाहिए.

मार्च माह में जब लॉकडाउन लगाया गया तो तभी से चंद्रपुर जिले के मेडिकल फील्ड के एक्सपर्ट बता रहे थे कि चंद्रपुर में भी कोरोना संक्रमण को लेकर हालात गंभीर हो जाएंगे. ज्यादातर महानगर पालिका क्षेत्रों में बढ़ते संक्रमण को देखते हुए जंबो कोविड केयर सेंटर का निर्माण किया गया. पिछले दो माह से चंद्रपुर में भी हालात काबू से बाहर दिखाई दे रहे है. लेकिन यहां पर प्रशासन अब भी कुछ करता नजर नहीं आ रहा है. अब तक जिले में 7524 मरीज मिले है. वहीं 109 लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है. कोरोना हॉस्पिटल के तौर पर जिन्हें मंजूरी मिली है वहां पर लगभग गरीबों को ‘नो एंट्री’ वाली स्थिति दिख रही है. पहले पैसे, बाद में इलाज जैसे हालात शहर में बन गए है. सरकारी अस्पताल में तो बेड ही नहीं मिल रहे है. इस मामले में न तो जनप्रतिनिधि और न ही अधिकारी कुछ करते दिख रहे है. सभी हाथ पर हाथ धरे बैठे है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here