ताडोबा के बाद चंद्रपूर जिले का तीसरा बड़ा अभयारण्य ‘कन्हालगांव’

0
352

: चंद्रपुर :

जिले के गोंड़पिपरी तहसील के अंग्रेज कालीन कन्हलागांव घने जंगल से घिरा हुआ है। यहां बड़ी संख्या में बाघ के साथ साथ अन्य वन्यजीव भी हैं इसलिए ब्रिटिश शासन के दौरान इसे ‘शूटिंग ब्लॉक’ के रूप में जाना जाता था।

ज्ञात हो की तत्कालीन ब्रिटिश अधिकारी वन्यप्राणियों के शिकार के लिए यहां आनेकी बात कही जाती हैं। अब राज्य सरकार ने इस कन्हलागांव के वन क्षेत्र को अभयारण्य रूप में घोषित किया गया है। गौरतलब है कि ताडोबा बाघ प्रकल्प के बाद जिले का तीसरा बड़ा अभयारण्य साबित होगा
Bकन्हलागाँव गोंडपिपरी तालुका में एक वनाच्छादित गाँव है। राज्य सरकार ने इस गाँव को एक अभयारण्य घोषित किया हैं। वन्यजीव प्रेमियों द्वारा इसका स्वागत किया गया। हालांकि, अभयारण्य बन जाने के बाद वास्तव में क्या होगा? ऐसा सवाल क्षेत्र के ग्रामीणों के सामने है। अभयारण्य से रोजगार के अवसर पैदा होगा वहीं, नागरिकों को जंगल में जाने की दुविधा भी होगा। कन्हलागाँव का यह जंगल पहले से ही बहुत प्रसिद्ध है। कहा जाता हैं कि इस क्षेत्र को अंग्रेजों के शासन द्वारा “शूटिंग ब्लॉक” घोषित किया गया था और यह वन क्षेत्र अब बड़ी संख्या में बाघों का बसेरा बना हुआ है। ब्रिटिश अधिकारी वन्यजीवों का शिकार करने के लिए यहां आते थे।

इसके अलावा बॉलीवुड के कई लोकप्रिय कलाकारों ने इस हिस्से का दौरा किया है। शिकार पर प्रतिबंध से पूर्व शिकारी भी शिकार कर यहां प्रसन्न होता थे। 1972 में, वन्यजीव अधिनियम और वन्यजीव शिकार पर प्रतिबंध लगा दिया गया। उसके बाद, यहां आने वाले वन्यप्रेमियों की तादाद बढ़ गई। लेकिन अवैध शिकार हो ही रहा है। कन्हलागांव में अंग्रेजों के जमाने में बनी रेस्ट हाउस के बगल में कूपन लाइन से 24 घंटे पानी अपने आप निकल आता है। इस कूपन लाइन को देखने के लिए बड़ी संख्या में शौकिया पर्यटक यहां आते हैं।

एक बार अभयारण्य स्थापित हो जाने के बाद, जंगल की रक्षा के लिए विभिन्न प्रतिबंध लगाएजेंगे। इसलिए, कन्हलागाँव अभयारण्य की घोषणा के बाद, कान्हरगाँव के नागरिकों को विभिन्न समस्याओं का सामना करना होगा। क्षेत्र के कई लोगों तेंदू पत्ते, जलाऊ लकड़ी और वन फलियां एकत्र करके रोजगार प्राप्त करते हैं। अभी वन विभाग ने इस संबंध में अपनी भूमिका स्पष्ट नहीं की है। इससे नागरिकों में भ्रम की स्थिति पैदा हो गई है।

◆ वन्यजीवों के प्रजनन के लिए उपयुक्त
कन्हलागाँव का जंगल बाघों के प्रजनन के लिए अत्यंत उपयुक्त है। ताडोबा से बाघ यहां प्रजनन के लिए आते हैं। यह हिस्सा ताडोबा के दक्षिण में पड़ता है। कन्हलागाँव के पश्चिम में टिकेश्वर अभयारण्य है। इंद्रावती टाइगर रिजर्व तेलंगाना में कावल एक प्रमुख गलियारा है जो एक दूसरे से जुड़ा हुआ है। यह अभयारण्य ताडोबा में बाघों के आवागमन की सुविधा प्रदान करेगा।

◆ क्षेत्र के नागरिकों को रोजगार के अवसर :
कन्हलागांव अभयारण्य 269 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैला हुआ है। अभयारण्य की घोषणा के बाद यह क्षेत्र का बड़ी तेजी से विकास होगा। दूसरी ओर जंगल की निर्भरता पर अपनी आजीविका का प्रस्ताव दे रहे ग्रामीणों को डर लगने लगा है। पिछले दस वर्षों से इको-प्रो संघटना मांग कर रहा है कि इस क्षेत्र को कान्हरगाँव के वन वैभव की रक्षा के लिए अभयारण्य घोषित किया जाना चाहिए। तत्कालीन वन मंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने भी इस क्षेत्र को अभयारण्य बनाने के लिए कदम उठाए थे।

सबसे ज्यादा अभयारण्य विदर्भ में है। हम जंगल की रक्षा करना चाहते हैं लेकिन इससे हमारे किसान आहत हैं। इसलिए शुरुआत में हम इस अभयारण्य के खिलाफ थे। लेकिन प्रारंभिक प्रस्ताव और अब घोषित अभयारण्य के बीच एक बड़ा अंतर है। क्षेत्र कम हो गया है। मुख्य वन संरक्षक प्रवीण ने आश्वासन दिया है कि क्षेत्र के कोई भी गांव प्रभावित नहीं होगा। इसलिए हमने इस अभयारण्य का विरोध नहीं किया। हम अभयारण्य का स्वागत करते हैं।
– सुभाष धोटे, विधायक, राज़ुरा विधानसभा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here